All Categories


Pages


क़तर की राजकुमारी शेखा सलवा सेक्स स्कैंडल की सच्चाई

जस्टिस मारकंडे काटजू कहते है कि भारत में 90 फीसद से ज़्यादा लोग बेवक़ूफ़ है जो किसी की भी कोई भी बात जल्दी से बिना समझे बूझे मान और यकीन कर लेते है।  आज जैसे ही मैंने अपना फेसबुक लॉगिन किया तो एक तरह की पोस्ट दबा के मुझे देखने को मिली।  हर जगह बस यही पोस्ट। जैसे भारत में बेरोज़गारी, अशिक्षा और बलात्कार बंद हो गए हो।  खुद को सभ्य कहने वाले नास्तिको को तो बड़ा मज़ा आ रहा था एक महिला पर लालछन लगाते हुए।  उनकी महिलाओ की इज़्ज़त की बाते , वो सत्य का साथ के भाषण , वो बराबरी की दलीले वापस किसी ग्लोरी होल में घुस चुकी थी ।  तो आइये अब बिना कोई बकलोली किये मुद्दे पर आते है सबसे पहले मैं आपको सोशल साइट्स में फ़ैल रहे कलंक के बारे में बताता हूँ। 

बताया जा रहा है कि यह औरत, जिसका फोटो नीचे लगा है, वो क़तर की शेख सलवा है और यह ब्रिटेन में 7 लोगो के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाते हुए पकड़ी गयी है।  वैसे तो पूरा फेसबुक ही रायचंदों से भरा हुआ था लेकिन फिर मैं आपको एक पोस्ट दिखाता हूँ। 

   
इस फेसबुकिये का इसकी एक फेसबुक पोस्ट पर  दावा है कि ब्रिटेन के अखबार का दावा है कि यह क़तर की राजकुमारी शेखा सलवा है और यह लन्दन में एक होटल में 7 लोगो के साथ सम्बन्ध बनाते हुए पकड़ी गयी है। पूरी पोस्ट मैं कॉपी पेस्ट करता हूँ 

"हम किसी से कम नहीं
_____________________________________
तुम्हें 72 चाहिए तो हमें भी चाहिए
चलो ठीक है 7 से ही काम चला लेंगे।
ब्रिटेन के अखबार फाइनेंशियल टाइम्‍स ने खबर दी है कि कतर की राजकुमारी शेखा सल्वा लंदन के एक होटल में सात लोगों के साथ शारीरिक संबंध बनाते रंगे हाथ पकड़ी गई थीं। अखबार के मुताबिक यह खबर दबाने के लिए कतर दूतावास ने 50 करोड़ यूरो घूस की भी पेशकश की। लेकिन अखबार ने रिश्वत न लेते हुए खबर छापने का फैसला किया। खबर के मुताबिक ब्रिटेन की सुरक्षा एजेंसी एमआई6 और स्‍कॉटलैंड यार्ड ने मिल कर राजकुमारी को पकड़ा था। पूछताछ में उन्‍होंने खुद को कतर के शाही परिवार की सदस्‍य बताया था। उन्‍होंने यह भी कहा कि उनका इरादा कतर की इज्‍जत को नुकसान पहुंचाने का नहीं था और न ही ब्रिटिश कानून के तहत उन्‍होंने कोई गलत काम किया है। हालांकि, सुरक्षाकर्मियों ने उन्‍हें बताया कि ब्रिटेन में आपराधिक रिकॉर्ड वाले व्‍यक्ति के साथ शारीरिक संबंध बनाना गैरकानूनी है।
एमआई6 और स्‍कॉटलैंड यार्ड को सेक्‍स रैकेट से जुड़ी कई शिकायतें मिली थीं। इसके बाद एक्‍सेलसिअर लंडन होटल में उन्‍होंने छापामारी की तो कतर के शाह की सौतेली बहन सात यूरोपीय लोगों के साथ शारीरिक संबंध बनाते पकड़ी गईं। अखबार का कहना है कि जब स्‍कॉटलैंड यार्ड के अफसरों ने लड़की का आईडी कार्ड देखा और उन्‍हें पता चला कि वह कतर के शाही खानदान से है तो वे हैरान रह गए।
कतर की राजकुमारी ने अपने सऊदी दलाल से इस बार एक साथ सात लोगों को लाने के लिए कहा था। उन्‍होंने दलाल से पूरी रात होटल के लॉबी में ही रुकने के लिए कहा था, ताकि मारपीट की कोई घटना न हो जाए। राजकुमारी के इस तरह के गोपनीय दौरों के दौरान मारपीट की घटनाएं हो चुकी हैं।"

यह पोस्ट डालने से पहले इन्होंने किसी भी तरह की सूझ बूझ का प्रदर्शन नहीं किया न ही इस पोस्ट के नीचे कमेंट करने वालो ने भी कोई सूझ बूझ दिखाई कि यह बात कितनी सच्ची है।  हमारे यहाँ भेड़चाल का कांसेप्ट पुराना नहीं है।  एक आता है , बांसुरी बजाता है और सारे उसके पीछे लग जाते है। अब आइये मैं आपको बताता हूँ कि यह महिला है कौन और इस महिला की क्या अचीवमेंट है।


यह महिला क़तर की कोई शेखा सलवा नहीं बल्कि संयुक्त अरब अमीरात की मजरोई होल्डिंग कंपनी की चीफ ऑपरेटिंग अफसर मिस आलिया अब्दुल्लाह अल मजरोई है


इतना ही नहीं यह कोई मामूली महिला नहीं बल्कि मध्य पूर्व एशिया की एक सफल उद्यमी है जिनको अमेरिका की फोर्बेस मैगज़ीन ने सराहा है


कितने शर्म की बात है कि एक तरफ खुद को महिलाओ का मसीहा घोषित करने वाले और खुलेपन की पैरवी करने वाले बस एक मौक़ा के इंतज़ार में रहते है कि कैसे किसी महिला पर लालछन लगाया जाए।  यही काम कोई और यदि ऐसे ही किसी व्यक्ति की माँ, बहन या बीवी की तस्वीर के साथ करे फिर ?

अब एक और बात आपने अक्सर सुना होगा कि इस्लाम में 4 मर्दो की गवाही मांगी जाती है। वो इसी केस में मांगी जाती है जब एक दलाल प्रवति का व्यक्ति किसी महिला पर कोई लालछन लगाए तब उसे अपने अलावा 4 ऐसे लोगो की गवाही प्रस्तुत करनी पड़ती है जिन्होंने सम्भोग को इस तरह देखा जिस तरह बाल्टी को किसी कूंए में जाते हुए देखा।  जब तक कोई 4 गवाह इसकी गवाही नहीं देते तब तक उस औरत को पवित्र ही समझ जाएगा।

लेकिन ऐसी प्रवति के लोग जिनके लिए सम्भोग अब कोई गलत चीज़ नहीं है वो कैसे किसी महिला को इस मुद्दे पर पकड़ सकते है कि देखो जी इन्होंने सम्भोग किया ? किया तो आप इसको इस तरह बताइये कि यह अच्छा कार्य किया , इसमें हमे स्वतंत्रता की बू आती है ?

शर्म आनी  चाहिए ऐसे लोगो के और आज खुल कर एक्सपोज़ हुए है वो लोग नारी को इज़्ज़त देने की बाते करते है।  ज़रा इन तमाम लोगो से पूछा जाए कि क्या आपकी किसी जान पहचान की महिला को इस तरह बदनाम किया जाए तो क्या आप उसे सही मान लेंगे। यह महिला इन जैसे लोगो से हर क्षेत्र में आगे निकल चुकी है।  एक बड़ी कम्पनी की चीफ ऑपरेटिंग अफसर है। ऐसे लोगो से ज़्यादा पढ़ी लिखी और कमाती है।  लेकिन जिन्होंने ज़िन्दगी भर कही का घंटा भी नहीं बजाया वो अपनी 100 लोगो की फैन फोल्लोविंग के सामने नेट पर बैठ कर इसकी उसकी करते रहते है

क़ुरआन की एक आयात से बात खत्म करता हूँ

" जब भी कोई फ़ासिक़ तुमको कोई खबर बताये , तब आगे पहुचाने से पहले उसकी पुष्टि कर लो"

बहुत मुमकिन है कि बिना पुष्टि किये बात को फैलाने से किसी मानव के मानव अधिकारों का खुल्ला उल्लंघन होता है




About the Author

Administrator

http://www.hindiustad.com/


Comments

sarfaraz qureshiAugust 26, 2016 Reply

U r r8 . . . .some people don't have manner. .


Your Response



Most Viewed - All Categories


Daily Khabarnama Daily Khabarnama